भोजपुरी के दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल ने लोगों से थिएटर जाकर फ़िल्म देखने की अपील की, कहा - इससे होगा भोजपुरी का विकास जनता की भावनाओं से जुड़ी है फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' : संग्राम सिंह पटेल 14 साल बाद फिर से भोजपुरी पर्दे की ओर लौटे दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल इन दिनों यूपी के लखनऊ में अपनी अपकमिंग फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' को शूटिंग में जोर शोर से लगे हुए हैं। फ़िल्म दिवाली तक रिलीज होगी, लेकिन उससे पहले संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि यह फ़िल्म जनता की भावनाओं से जुड़ी फ़िल्म है। जहां आज कल भोजपुरी में एक ही तरह की फिल्में बन रहीं हैं, वहीं इस फ़िल्म की मेकिंग काफी अलग है। यह दर्शकों को खूब पसंद भी आने वाली है। संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि भोजपुरी दर्शकों की संख्या आज 27 करोड़ से भी ज्यादा है। लेकिन दुर्भाग्य है कि भोजपुरी के दर्शक थिएटर तक नहीं जाते। जब तक लोग थिएटर तक नहीं जाएंगे, भोजपुरी को सम्मान कहाँ से मिलेगा। वहीं साउथ में लोग दिनभर काम करके फिर रात में पूरे परिवार के साथ थिएटर में फ़िल्म देखते हैं। हमारी कोशिश भी यही है कि हम लोगों को थिएटर तक लाएं। उन्होंने वल्गरिटी को लेकर कहा कि कुछ चीजें रही हैं, जिससे भोजपुरी बदनाम रहा है। मगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सख्त हिदायत दे रखी है और अब मेकर्स भी अच्छी फिल्में बना रहे हैं। उन्होंने फिल्म के टाइटल को लेकर कहा कि भोजपुरी में टाइटल का बहुत अभाव रहा है। इसलिए आजकल हिंदी फिल्मों के टाइटल लेकर फ़िल्म बनाये जा रहे हैं। लेकिन हमारी फ़िल्म का टाइटल 'बलमुआ नदिया पार के' प्योर भोजपुरी फील देने वाला है। यह दर्शकों को पसन्द भी आएगी। संग्राम ने बताया कि फि में उनका किरदार एक गरीब ऑटो वाले का है, जो लोगों के दिलो को छू लेगा। उन्होंने कहा कि फ़िल्म की शूटिंग लगभग एक महीने चलेगी और इस फ़िल्म के निर्माता धर्मेंद्र तिवारी व नौशाद अली राहत हैं। निर्देशन संदीप मिश्रा कर रहे हैं। पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं।

भोजपुरी के दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल ने लोगों से थिएटर जाकर फ़िल्म देखने की अपील की, कहा – इससे होगा भोजपुरी का विकास♦

 

भोजपुरी के दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल ने लोगों से थिएटर जाकर फ़िल्म देखने की अपील की, कहा - इससे होगा भोजपुरी का विकास जनता की भावनाओं से जुड़ी है फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' : संग्राम सिंह पटेल 14 साल बाद फिर से भोजपुरी पर्दे की ओर लौटे दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल इन दिनों यूपी के लखनऊ में अपनी अपकमिंग फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' को शूटिंग में जोर शोर से लगे हुए हैं। फ़िल्म दिवाली तक रिलीज होगी, लेकिन उससे पहले संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि यह फ़िल्म जनता की भावनाओं से जुड़ी फ़िल्म है। जहां आज कल भोजपुरी में एक ही तरह की फिल्में बन रहीं हैं, वहीं इस फ़िल्म की मेकिंग काफी अलग है। यह दर्शकों को खूब पसंद भी आने वाली है। संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि भोजपुरी दर्शकों की संख्या आज 27 करोड़ से भी ज्यादा है। लेकिन दुर्भाग्य है कि भोजपुरी के दर्शक थिएटर तक नहीं जाते। जब तक लोग थिएटर तक नहीं जाएंगे, भोजपुरी को सम्मान कहाँ से मिलेगा। वहीं साउथ में लोग दिनभर काम करके फिर रात में पूरे परिवार के साथ थिएटर में फ़िल्म देखते हैं। हमारी कोशिश भी यही है कि हम लोगों को थिएटर तक लाएं। उन्होंने वल्गरिटी को लेकर कहा कि कुछ चीजें रही हैं, जिससे भोजपुरी बदनाम रहा है। मगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सख्त हिदायत दे रखी है और अब मेकर्स भी अच्छी फिल्में बना रहे हैं। उन्होंने फिल्म के टाइटल को लेकर कहा कि भोजपुरी में टाइटल का बहुत अभाव रहा है। इसलिए आजकल हिंदी फिल्मों के टाइटल लेकर फ़िल्म बनाये जा रहे हैं। लेकिन हमारी फ़िल्म का टाइटल 'बलमुआ नदिया पार के' प्योर भोजपुरी फील देने वाला है। यह दर्शकों को पसन्द भी आएगी। संग्राम ने बताया कि फि में उनका किरदार एक गरीब ऑटो वाले का है, जो लोगों के दिलो को छू लेगा। उन्होंने कहा कि फ़िल्म की शूटिंग लगभग एक महीने चलेगी और इस फ़िल्म के निर्माता धर्मेंद्र तिवारी व नौशाद अली राहत हैं। निर्देशन संदीप मिश्रा कर रहे हैं। पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं।
भोजपुरी के दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल ने लोगों से थिएटर जाकर फ़िल्म देखने की अपील की, कहा – इससे होगा भोजपुरी का विकास
जनता की भावनाओं से जुड़ी है फ़िल्म ‘बलमुआ नदिया पार के’ : संग्राम सिंह पटेल
14 साल बाद फिर से भोजपुरी पर्दे की ओर लौटे दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल इन दिनों यूपी के लखनऊ में अपनी अपकमिंग फ़िल्म ‘बलमुआ नदिया पार के’ को शूटिंग में जोर शोर से लगे हुए हैं। फ़िल्म दिवाली तक रिलीज होगी, लेकिन उससे पहले संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि यह फ़िल्म जनता की भावनाओं से जुड़ी फ़िल्म है। जहां आज कल भोजपुरी में एक ही तरह की फिल्में बन रहीं हैं, वहीं इस फ़िल्म की मेकिंग काफी अलग है। यह दर्शकों को खूब पसंद भी आने वाली है
संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि भोजपुरी दर्शकों की संख्या आज 27 करोड़ से भी ज्यादा है। लेकिन दुर्भाग्य है कि भोजपुरी के दर्शक थिएटर तक नहीं जाते। जब तक लोग थिएटर तक नहीं जाएंगे, भोजपुरी को सम्मान कहाँ से मिलेगा। वहीं साउथ में लोग दिनभर काम करके फिर रात में पूरे परिवार के साथ थिएटर में फ़िल्म देखते हैं। हमारी कोशिश भी यही है कि हम लोगों को थिएटर तक लाएं। उन्होंने वल्गरिटी को लेकर कहा कि कुछ चीजें रही हैं, जिससे भोजपुरी बदनाम रहा है। मगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सख्त हिदायत दे रखी है और अब मेकर्स भी अच्छी फिल्में बना रहे हैं।
उन्होंने फिल्म के टाइटल को लेकर कहा कि भोजपुरी में टाइटल का बहुत अभाव रहा है। इसलिए आजकल हिंदी फिल्मों के टाइटल लेकर फ़िल्म बनाये जा रहे हैं। लेकिन हमारी फ़िल्म का टाइटल ‘बलमुआ नदिया पार के’ प्योर भोजपुरी फील देने वाला है। यह दर्शकों को पसन्द भी आएगी। संग्राम ने बताया कि फि में उनका किरदार एक गरीब ऑटो वाले का है, जो लोगों के दिलो को छू लेगा। उन्होंने कहा कि फ़िल्म की शूटिंग लगभग एक महीने चलेगी और इस फ़िल्म के निर्माता धर्मेंद्र तिवारी व नौशाद अली राहत हैं। निर्देशन संदीप मिश्रा कर रहे हैं। पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं।

 

 

 

भोजपुरी के दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल ने लोगों से थिएटर जाकर फ़िल्म देखने की अपील की, कहा - इससे होगा भोजपुरी का विकास जनता की भावनाओं से जुड़ी है फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' : संग्राम सिंह पटेल 14 साल बाद फिर से भोजपुरी पर्दे की ओर लौटे दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल इन दिनों यूपी के लखनऊ में अपनी अपकमिंग फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' को शूटिंग में जोर शोर से लगे हुए हैं। फ़िल्म दिवाली तक रिलीज होगी, लेकिन उससे पहले संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि यह फ़िल्म जनता की भावनाओं से जुड़ी फ़िल्म है। जहां आज कल भोजपुरी में एक ही तरह की फिल्में बन रहीं हैं, वहीं इस फ़िल्म की मेकिंग काफी अलग है। यह दर्शकों को खूब पसंद भी आने वाली है। संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि भोजपुरी दर्शकों की संख्या आज 27 करोड़ से भी ज्यादा है। लेकिन दुर्भाग्य है कि भोजपुरी के दर्शक थिएटर तक नहीं जाते। जब तक लोग थिएटर तक नहीं जाएंगे, भोजपुरी को सम्मान कहाँ से मिलेगा। वहीं साउथ में लोग दिनभर काम करके फिर रात में पूरे परिवार के साथ थिएटर में फ़िल्म देखते हैं। हमारी कोशिश भी यही है कि हम लोगों को थिएटर तक लाएं। उन्होंने वल्गरिटी को लेकर कहा कि कुछ चीजें रही हैं, जिससे भोजपुरी बदनाम रहा है। मगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सख्त हिदायत दे रखी है और अब मेकर्स भी अच्छी फिल्में बना रहे हैं। उन्होंने फिल्म के टाइटल को लेकर कहा कि भोजपुरी में टाइटल का बहुत अभाव रहा है। इसलिए आजकल हिंदी फिल्मों के टाइटल लेकर फ़िल्म बनाये जा रहे हैं। लेकिन हमारी फ़िल्म का टाइटल 'बलमुआ नदिया पार के' प्योर भोजपुरी फील देने वाला है। यह दर्शकों को पसन्द भी आएगी। संग्राम ने बताया कि फि में उनका किरदार एक गरीब ऑटो वाले का है, जो लोगों के दिलो को छू लेगा। उन्होंने कहा कि फ़िल्म की शूटिंग लगभग एक महीने चलेगी और इस फ़िल्म के निर्माता धर्मेंद्र तिवारी व नौशाद अली राहत हैं। निर्देशन संदीप मिश्रा कर रहे हैं। पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं।

 

 

भोजपुरी के दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल ने लोगों से थिएटर जाकर फ़िल्म देखने की अपील की, कहा - इससे होगा भोजपुरी का विकास जनता की भावनाओं से जुड़ी है फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' : संग्राम सिंह पटेल 14 साल बाद फिर से भोजपुरी पर्दे की ओर लौटे दबंग स्टार संग्राम सिंह पटेल इन दिनों यूपी के लखनऊ में अपनी अपकमिंग फ़िल्म 'बलमुआ नदिया पार के' को शूटिंग में जोर शोर से लगे हुए हैं। फ़िल्म दिवाली तक रिलीज होगी, लेकिन उससे पहले संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि यह फ़िल्म जनता की भावनाओं से जुड़ी फ़िल्म है। जहां आज कल भोजपुरी में एक ही तरह की फिल्में बन रहीं हैं, वहीं इस फ़िल्म की मेकिंग काफी अलग है। यह दर्शकों को खूब पसंद भी आने वाली है। संग्राम सिंह पटेल ने कहा कि भोजपुरी दर्शकों की संख्या आज 27 करोड़ से भी ज्यादा है। लेकिन दुर्भाग्य है कि भोजपुरी के दर्शक थिएटर तक नहीं जाते। जब तक लोग थिएटर तक नहीं जाएंगे, भोजपुरी को सम्मान कहाँ से मिलेगा। वहीं साउथ में लोग दिनभर काम करके फिर रात में पूरे परिवार के साथ थिएटर में फ़िल्म देखते हैं। हमारी कोशिश भी यही है कि हम लोगों को थिएटर तक लाएं। उन्होंने वल्गरिटी को लेकर कहा कि कुछ चीजें रही हैं, जिससे भोजपुरी बदनाम रहा है। मगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने सख्त हिदायत दे रखी है और अब मेकर्स भी अच्छी फिल्में बना रहे हैं। उन्होंने फिल्म के टाइटल को लेकर कहा कि भोजपुरी में टाइटल का बहुत अभाव रहा है। इसलिए आजकल हिंदी फिल्मों के टाइटल लेकर फ़िल्म बनाये जा रहे हैं। लेकिन हमारी फ़िल्म का टाइटल 'बलमुआ नदिया पार के' प्योर भोजपुरी फील देने वाला है। यह दर्शकों को पसन्द भी आएगी। संग्राम ने बताया कि फि में उनका किरदार एक गरीब ऑटो वाले का है, जो लोगों के दिलो को छू लेगा। उन्होंने कहा कि फ़िल्म की शूटिंग लगभग एक महीने चलेगी और इस फ़िल्म के निर्माता धर्मेंद्र तिवारी व नौशाद अली राहत हैं। निर्देशन संदीप मिश्रा कर रहे हैं। पीआरओ संजय भूषण पटियाला हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Language »