1965 के पाकिस्तान युद्ध में अपराजेय माने जाने वाले अमरीकी पैटन टैंकों को धूल में मिलाने वाले भारत के लाल, परम बलिदान देकर अमर हुए परमवीर चक्र योद्धा अब्दुल हमीद के शहादत दिवस पर श्रद्धापूर्ण नमन 🇮🇳

दुनिया का हर युद्ध हार-जीत के साथ ही अपने पीछे उन तमाम सैनिकों की कहानियां छोड़ जाता है जिसे सुनने के लिए वे हमारे बीच मौजूद नहीं रहते…हिन्दोस्तान की बुलंद इमारते इस लिये शान से खडी है क्योंकि उसकी बुनियाद में वीर अब्दुल हमीद जैसे बहादुर लोगो की क़ुर्बानी शामिल है।
भारत पाकिस्तान के युद्ध में अकेले सात (07) टैंको को कागजी नाव की तरह नेस्तो नाबूत करने वाले परमवीर चक्र विजेता वीर अब्दुल हमीद साहब की यौमे वफ़ात (शहादत) के मौके पर हम उन्हें खिराजे अक़ीदत पेश करते हैं।

ऐ राहे-हक़ के शहीदों…वफ़ा की तस्वीरों…..तुम्हे वतन की हवाये सलाम करती है..!! 💝💝

जो लोग हिन्दू मुस्लिम करके देश की सद्भावना को खत्म करना चाहते हैं उनके लिए ये संदेश है कि भारत एक था. है और रहेगा….
जय हिंद जय भारत

थी खून से लथपथ काया, फिर भी बंदूक उठाके
दस दस को एक ने मारा, फिर गिर गये होश गँवा के…..

10 सितम्बर 1965 , वो दिन जब पाकिस्तानी टैंकरों की आवाजें भारत के एक शेर की दहाड़ के आगे दब गयी थी. ‘वीर अब्दुल हमीद ‘ ….. जिन्होंने मात्र अपनी साधारण “गन माउन्टेड जीप” से उस समय अपराजेय समझे जाने वाले पाकिस्तान के सात “पैटन टैंकों” को ध्वस्त करके दुश्मन की कमर तोड़कर रख दी, मगर आठवां टैंक नष्ट करने के साथ ही देश अपना एक और ‘अभिमन्यु ‘ खो चुका था। भारत सरकार ने उनके अदम्य साहस और बलिदान के लिए मरणोपरांत सर्वोच्च वीरता पुरस्कार ‘परमवीर चक्र’ से सम्मानित किया… बलिदान दिवस पर एक छोटी सी श्रद्धांजलि…. 🙏🙏🙂

हे असली नायक तुम्हें प्रणाम ❤️🙏

2 thoughts on “वीर अब्दुल हामिद:भारत माँ का वो लाल जिसने जंग मे अतुल्य साहस का परिचय दिया”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Language »