पूर्वांचल के कद्दावर नेता राणा सुजीत सिंह का दिल्ली कांग्रेस में घर वापसी

कांग्रेस जॉइन करने के बाद राणा सुजीत सिंह ने भाजपा को लिया निशाने पर , कहा – इलेक्शन के बाद सब भूल जाती है भाजपा

दिल्ली : एमसीडी चुनाव से पूर्व पूर्वांचल के कद्दावर नेता राणा सुजीत सिंह की आज अखिल भारतीय कांग्रेस पार्टी, दिल्ली में घर वापसी हो गयी। उन्हें आज पार्टी के राजीव भवन स्थित कार्यालय में दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अनिल चौधरी, शक्ति सिंह गोहिल (प्रभारी दिल्ली व बिहार) और उपाध्यक्ष अली मेहंदी ने शामिल करवाया। उनके अलावा इस मौके पर बड़ी संख्या में अन्य दलों से आये लोगों ने भी दिल्ली कांग्रेस की सदस्यता ली।

पूर्वांचल के कद्दावर नेता राणा सुजीत सिंह का दिल्ली कांग्रेस में घर वापसी

इस दौरान राणा सुजीत सिंह ने कहा कि घर हमेशा घर होता है। कांग्रेस पार्टी मेरा घर है और मैं अपने घर वापस लौट आया हूँ। उन्होंने कांग्रेस में विश्वास दिखाते हुए कहा कि मुझे दिल्ली प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अनिल चौधरी ने एक जिम्मेदारी दी है कि पूर्वांचल भाईयों के बीच जाकर उनकी दुख और तकलीफ को सुन उसका निष्पादन करूँ। इसके लिए मैं पूरी तरह से तैयार हूं।

कांग्रेस में आने के राणा सुजीत सिंह ने भाजपा पर भी जमकर हमला बोला और उन्होंने दिल्ली विधान सभा में पार्टी की उपस्थिति को लेकर भी अपनी बात प्रमुखता से कही। उन्होंने कहा कि भाजपा केवल वोट लेने वाले पार्टी है, चाहे जैसे भी हो। इलेक्शन के बाद वो लोगों को भूल जाती है। उनसे लोग परेशान हैं और सबसे अधिक पूर्वांचल के लोग मायूस हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली विधान सभा में अगर आज हमारी संख्या कम है तो आने वाले दिनों में चीजें बदलेंगी।

उन्होंने पूर्वांचल के लोगों के लिए अपनी प्रतिबद्धता को दुहराया और कहा कि कोविड काल में पूर्वांचल के भाइयों को बहुत तकलीफ सहनी पड़ी। सबसे अधिक प्रभावित पूर्वांचल भाईयों की हुई। दिल्ली में रहने वाले 50 से 60 प्रतिशत पूर्वांचल की जनता अपनी रोजी रोटी छोड़ कर चली गयी और जो बचे हैं उनके पास जीविकोपार्जन के लिए पैसे नहीं बचे। अब वे दिल्ली आने से भी डरने लगे हैं। मुझे आज पार्टी ने उनके डर को खत्म करने की जिम्मेदारी सौंपी है, जिसे मैं हर हाल में पूरा करूँगा।

उन्होंने दिल्ली में एमसीडी चुनाव में अपनी दावेदारी को लेकर कहा कि मैंने चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस जॉइन नही किया। मेरा मकसद कांग्रेस की विचारधारा को हर घरों में मजबूत करने की है। चुनाव कोई भी लड़े, जीत पार्टी की विचारधारा की होगी। पूर्वांचल की जनता मौजूदा सरकारों से परेशान है। वे उससे निजात चाहती है, जिसके लिए हम काम करेंगे।

Language »