जयगुरुदेव: 28 वीं वाहिनी पीएसी इटावा ,उत्तर प्रदेश। उप सेनानायक(IPS) अनिल कुमार पाण्डेय जी द्वारा दो दिवसीय योग शिविर का कार्यक्रम आयोजित किया गया।

 जयगुरुदेव: 28 वीं वाहिनी पीएसी इटावा ,उत्तर प्रदेश। उप सेनानायक(IPS) अनिल कुमार पाण्डेय जी द्वारा दो दिवसीय योग शिविर का कार्यक्रम आयोजित किया गया।

जयगुरुदेव🙏28 वीं वाहिनी पीएसी इटावा ,उत्तर प्रदेश। उप सेनानायक(IPS) अनिल कुमार पाण्डेय जी द्वारा दो दिवसीय योग शिविर का कार्यक्रम आयोजित किया गया।
जिसमें पी ए सी के 200 नौजवान भाइयों अधिकारियों और कर्मचारियों को । सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए।इम्युनिटी पावर बढ़ाने वाले, योगासन और प्राणायाम कराया गया।

योग नाद

👉योगासन करने से मन एकाग्र, शरीर स्वस्थ और दिमाग तरोताजा रहता है।
👉 योगासन करने से हमारे सभी मांसपेशियां लचीली होती हैं, रक्त नलिका में ब्लड का संचार सुचारू रूप से परिसंचलन होता है। सभी कोशिकाएं ऊर्जावान और प्रफुल्लित होती हैं जिस भी अंग का योगासन करते हैं, वहां से टॉक्सिन डिटॉक्सिफाई हो करके ,वह अंग का शुद्धिकरण होता है ।शरीर स्वस्थ्य मन एकाग्र व शांत होता है।


👉प्राणायाम = प्राण + आयाम । इसका का शाब्दिक अर्थ है – ‘प्राण (श्वसन) को लम्बा करना’ या ‘प्राण (जीवनीशक्ति) को लम्बा करना’। … प्राण या श्वास का आयाम या विस्तार ही प्राणायाम कहलाता है।
👉 हमारे शरीर में 10 प्राण होते हैं, जिसमें पांच प्रमुख पांच उप प्राण हैं।

योग ध्यान प्राणायाम


👉 पांच प्रमुख प्राण.. प्राण ,अपान, उदान, सम्मान और व्यान।
👉 पांच उप प्राण है– नाग, कूर्म ,कृकल, देवदत्त और धनन्जय।
👉 प्राण के अनंत कार्य हैं… अंतर ग्रहण ,पाचन ,उत्सर्जन ,परिसंचरण, और उच्च कार्य।
👉 प्राणायाम के नियमित अभ्यास से प्राणमय कोष को बेहतर बनाया जा सकता है।
👉 सभी को योगासन और प्राणायाम के महत्व को विस्तार से बताया गया। सभी ने बड़े खुशी आनंद और उत्साह साथ योगासन और प्राणायाम किया।

Related post

1 Comment

  • जय गुरूदेव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Language »