SC/ST एक्ट से नाराज एक भाजपा समर्थक, ने मोदी की तुलना पूर्व प्रधानमंत्री वी. पि. सिंह से करते हुए कहा हो जाएगी आपकी रजनीति खत्म अगर नहीं बनाये राम मंदिर ।

Posted by Team BiharBeckon on
1st Image

नब्बे के दशक में मंडल कमिशन की रिपोर्ट आने के बाद देश में ठीक ऐसे ही हालात बन गए थे जैसे की आज SC/ST एक्ट बिल आने के बाद बन गए हैं । उन दिनों देश में सवर्ण समुदाय में ऐसे ही उबाल था । लोग सड़कों पे थे । आये दिन आत्मदाह की खबरे आती थी । हिन्दू समुदाय पिछड़ा और अगड़ा वर्ग में बंट गया था । विश्व नाथ प्रताप सिंह जो तब तक बेहद पढ़े लिखे और तेज़ तर्रार नेताओं में गिने जाते थे ,वो एक अच्छे अर्थ शास्त्री भी थे । उन्हें देश भर में नफरत की निगाह से देखा जाने लगा । विश्व नाथ प्रताप सिंह ,ये नाम तब नफरत का पर्याय बन गया था । लोगों में इतना गुस्सा था की अगर विश्व नाथ प्रताप सिंह सवर्णों को कहीं अकेले में मिल जाते तो उनकी मार मार कर हत्या कर दी जाती, खैर विश्व नाथ प्रताप सिंह इतनी गाली सुनने के बाद भी दलितों के मसीहा नहीं बन पाए उनकी राजनीति खत्म हो गयी । उनके घर के लोगों तक से जनता चिढने लगी । उनकी मौत भी ऐसे समय हुई की कुत्ता भी नयी रोया उनकी मौत पे, जिस दिन मुंबई पे हमला हुवा था 27 नवम्बर 2008 ,उस दिन मीडिया मुबई हमलो की कवरेज़ में व्यस्त थी । ऐसी मौत हुई उनकी की किसी ने शोक तक व्यक्त नहीं किया । शायद यही उनके पापों की सजा थी । उनकी अंतिम यात्रा भी बहुत साधारण तरीके से सम्प्पन हुई ।

मोदी जी पिछड़े हुई जाति से आते हैं , ये बात मै नहीं खुद मोदी जी ने मीडिया को बतायी है ,हमें तो ये भी नहीं पता था की वो चाय बेचते थे और उनकी माँ बर्तन माजती थी ।  ये बात भी मोदी जी ने ही अमेरिका में मार्क जुकरबर्ग को एक कार्यकर्म में बतायी थी । इसलिए जब भी मोदी जी दलितों की बात करते है तो मुझे कुछ नया नहीं लगता । वो जिस जाति से आते हैं उसका भला कर रहे हैं और करना चाहिए ,मुझे कोई आपत्ति नहीं । आप उनके लिए स्कुल कालेज बनाइये, उनके लिए छात्रवृति दीजिये , अलग से इन्फ्रास्ट्रक्चर और स्कुल कालेज बना दीजिये , उनके लिए अलग और विशेष आर्थिक पॅकेज दीजिये , स्वास्थ सुविधायें मुहैया कराइए, उनके लिए पुलिस में अलग हेल्पलाइन शुरू कीजिये या फिर हम आम सवर्ण जनता से ही इनके लिए एक अलग फण्ड में पैसे डालने के लिए बोल दीजिये , कोई ना दे तो उसके बैंक अकाउंट से जबरदस्ती काट लीजिये । हमें कोई आपत्ति नहीं लेकिन अंग्रेजों के बनाए रोलट एक्ट की तर्ज पे बने SC/ST एक्ट बिल को जबरदस्ती मत लागू कीजिये । ये मै इसलिए नहीं कह रहा क्यों की मै सवर्ण हूँ बल्कि मै इसलिए कह रहा हूँ की क्योंकी मै दिल से चाहता हूँ अगली बार आपकी सरकार आये और आपका हाल  सिंह वाला ना हो ।  साहब ये दलित वर्ग आज तक किसी का नहीं हुवा अगर ये मायावती और कांशी राम का होता तो मायावती अब तक PM होती , विश्व नाथ प्रसाद सिंह सिंह आपसे खराब नेता नहीं थे लेकिन इसी विभाजनकारी राजनीति के चक्कर में उनकी राजनीति खत्म हो गयी ।  मै चाहता हूँ अभी आप कम से कम दस साल PM बने रहे उसके बार सत्ता योगी जी को हस्तांतरित की जाय और आप आराम से हिमालय चले जाएँ क्यों की आपकी वो पसंदीदा जगह है और अगर आप ये बिल वापस नहीं करते हैं तो कम से कम राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द शुरू कर दें । हमारी 100 % नाराजगी खत्म हो जायेगी । लेकिन आपने ना तो 370 हटाया ना तो राम मंदिर पे आपका कोई बयान आया ।  ऐसे में मुझे डर है की कही आपका हाल  विश्व नाथ प्रसाद  सिंह वाला ना हो जाय । मान लीजिये मै वोट दे दूंगा आपको , क्यों मेरा आपसे स्वार्थ जुड़ा है,(हिंदुत्व के मुद्दे पे ) लेकिन भारत का ग्रामीण समुदाय आज भी आपसे नाराज है । अभी भी समय है ,राममंदिर का तीर तरकस से निकालिए नहीं तो  सिंह से भी बुरा हाल होगा और लोग आपके नाम से इतना चिढ़ जायेंगे की कोई नाम नहीं लेगा आपका और आप भी जब मरेंगे तो आपकी मौत की खबर भी न्यूज़ चैनल के नीचे चलती खबरों वाली लाल पट्टी में चलती रहेगी “पूर्व प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी का निधन “ ठीक विश्व नाथ प्रसाद  सिंह की तरह कोई पूछेगा भी नहीं आपको । अटल जी की तरह सम्मान ना मिल पायेगा आपको । इसलिए इतिहास में नाम दर्ज कराना हो तो तो मंदिर बनवा दीजिये ।

आपका शुभ चिंतक ।

अस्वीकरण: यह पोस्ट फेसबुक पर वायरल एक पोस्ट से लिया गया है ।

comments powered by Disqus