भूटान ने नहीं रोका भारतीय किसानों का पानी बताइए क्या है परेशानी सूत्र

नई दिल्‍ली, एएनआइ। भूटान द्वारा भारतीय सीमा पर असम में सिंचाई के लिए पानी छोड़ना बंद करने की खबरों में कोई सच्‍चाई नहीं है। सूत्रों के मुताबिक, भूटान की ओर से मरम्‍मत का काम चल रहा है, इसलिए पानी का सुचारू प्रवाह नहीं हो रहा है। सूत्रों ने बताया कि भूटानी पक्ष की ओर से इस मुद्दे पर कहा गया है कि उनकी ओर से पानी नहीं रोका गया है। दरअसल, असम में पानी के सुचारू प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए चैनलों में मरम्मत का काम किया जा रहा है।

दरअसल, गुरुवार को खबर आई कि चीन के दबाव में असम के करीब भूटान ने भारतीय सीमा पर सिंचाई के लिए पानी छोड़ना बंद कर दिया है। इससे सीमावर्ती 25 गांवों के हजारों किसानों पर संकट आ गया है।

यज्ञोपवीत का महत्व समझिये और इसे धारण करने संबंधी नियमों का पालन करिये

गुवाहाटी में सूत्रों के अनुसार, धान की रोपाई के लिए मानव निर्मित सिंचाई प्रणाली ‘डोंग’ को बाधित किए जाने के खिलाफ किसानों ने विरोध प्रदर्शन किया है।

सीमावर्ती क्षेत्र में भूटान और भारत के किसान इस सिंचाई प्रणाली का उपयोग वर्ष 1953 से करते आ रहे हैं। लेकिन थिंपू में भूटान सरकार के अखबार के संपादक तेंजिंग लांगसांग ने विवादित बयान देते हुए कहा कि भूटान ने भारत की ओर जाने वाले सिंचाई के सारे पानी को रोक लिया है। उन्होंने कई ट्वीट करते हुए कहा कि हर साल भूटान असम के किसानों को पानी का रुख मोड़ने देता था, ताकि वह सिंचाई के लिए कुछ पानी जुटा सकें। लेकिन अब सीमाएं सील कर दी गई हैं। इससे सीमावर्ती किसान घबरा गए, लेकिन अब

Add your comment

Your email address will not be published.